ओलिंपिक पर आशंका, आईफोन की शॉर्टेज तय, 3 माह में इकोनॉमी को 280 अरब डॉलर का नुकसान

0
23


  • टोक्यो ओलिंपिक का ऑफिशियल मोटो: यूनाइटेड बाय इमोशंस रिलीज
  • चीन में कई कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को को छुट्‌टी पर भेजा

Dainik Bhaskar

Feb 23, 2020, 10:12 AM IST

(चार्ली कैंपबेल). 17 फरवरी को टोक्यो 2020 ओलिंपिक से जुड़ी आयोजन समिति ने गेम्स का ऑफिशियल मोटो: यूनाइटेड बाय इमोशंस रिलीज किया। लेकिन दुनिया एक और इमोशन के साये में जी रही है। यह इमोशन है- भय का। कोरोना वायरस ने कमजोर होने के मामूली संकेत दिए हैं। लेकिन इसका खतरा बढ़ रहा है।

टोक्यो ओलिंपिक में 152 दिन शेष रह गए हैं। आशंका जताई जा रही है कि कोरोना वायरस के चलते ओलिंपिक रद्द हो सकते हैं। वायरस की वजह से 75 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। दो हजार से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं। साथ ही यह 50 से ज्यादा देशों में फैल चुका है। सार्स और मर्स से हुई कुल मौतों से भी ज्यादा जानें अकेला यह ‘डेविल’ वायरस ले चुका हैं। 

टोक्यो ओलिंपिक पर खतरा इसलिए भी ज्यादा है, क्योंकि चीन के बाद जापान ही है जहां इस वायरस से अभी सबसे ज्यादा 695 लोग संक्रमित हैं। संक्रमित लोगों में अधिकतर जहाज डायमंड प्रिंसेस पर यात्रा कर रहे थे। यह क्रूज ओलिंपिक के मुख्य कार्यक्रम स्थल योकोहामा बेसबॉल स्टेडियम से सिर्फ तीन किलोमीटर की दूरी पर खड़ा है।

25 बिलियन डॉलर खर्च हो रहे

24 जुलाई से 9 अगस्त तक होने वाले ओलिंपिक पर 25 बिलियन डॉलर खर्च हो रहे हैं। ऐसे में अगर ओलिंपिक रद्द या कहीं और होते हैं, तो जापान की अर्थ‌व्यवस्था को बड़ा झटका हो सकता है। जापान की सरकारी न्यूज के मुताबिक टोक्यो ऑर्गेनाइजिंग कमेटी के सीईओ तोसिरो मुटो के अनुसार कोरोना वायरस से गेम्स पर असर हो सकता है।

ओलिंपिक कैंसल करने का कोई विचार नहीं

हालांकि ऑर्गेनाइजिंग कमेटी के प्रेसिडेंट योशिरो मोरी के अनुसार ओलिंपिक कैंसल करने या कहीं और ले जाने का फिलहाल कोई विचार नहीं है। ओलिंपिक टॉर्च रिले 26 मार्च से फुकुशिमा से शुरू होगी और 121 दिन की अपनी यात्रा पूरी करेगी। हालांकि इस बीच संभावनाएं जताई जा रही हैं कि गर्मी बढ़ने के साथ वायरस का असर कम हो जाएगा। 2003 में सार्स का असर भी गर्मी के मौसम में कम हो गया था।
 

वर्ल्ड इकोनॉमी: 50 लाख कंपनियों को होगा कच्चे माल का संकट

रिसर्च फर्म- कैपिटल इकोनॉमिक्स के अनुसार कोरोना से वर्ल्ड इकोनॉमी को पहली तिमाही में 280 अरब डॉलर का नुकसान होगा। चीन दुनियाभर में पचास लाख कंपनियों को कच्चे माल की आपूर्ति करता है। उत्पादन की क्षमता प्रभावित होने के चलते इन पर असर पड़ सकता है।
 

एपल: तिमाही में घाटा तय, आईफोन की शॉर्टेज आएगी
एपल ने अपने निवेशकों को पहली तिमाही में घाटा होने की आशंका पहले ही जाहिर कर दी है। एपल ने कहा है- चूंकि कोरोना के चलते कई चीनी फैक्ट्री बंद हो चुकी है। ऐसे में दुनिया के कई देशों में आईफोन की शॉर्टेज देखने को मिल सकती है।

हुंडई: दुनिया का सबसे प्रोडक्टिव कार प्लांट बंद
हुंडई ने पार्ट्स की कमी से 7 फरवरी को द. कोरिया के उल्सान में स्थित प्लांट बंद कर दिया। उल्सान दुनिया का सबसे प्रोडक्टिव कार प्लांट है। इसकी क्षमता हर साल 1.40 करोड़ कारों की है। द. कोरिया में 25 हजार से ज्यादा लोगों को फोर्स्ड लीव दी गई है।

एयरलाइंस: 21 कंपनियों ने चीन की सभी सेवाएं समाप्त कीं
कोराेना के कारण 21 कंपनियों ने चीन के लिए अपनी सेवाएं खत्म कर दी हैं। हांगकांग की कैथी पैसेफिक ने अपनी नेटवर्क क्षमता 40% घटा दी है। साथ ही 27 हजार कर्मचारियों को छुट्‌टी पर भेजा है। ये अनपेड लीव होंगी। वायरस के चलते मार्च तक जापान में पर्यटकों की संख्या 40% फीसदी तक कम होने का अंदेशा है।



Source link

Leave a Reply