कोरोनावायरस की छपरा में संदिग्ध मरीज मिली, चीन से लौटने के बाद तबीयत खराब हुई

0
34


  • कोरोनावायरस के मरीज के इलाज के लिए पीएमसीएच हाई अलर्ट पर
  • डॉक्टर्स ने कहा- छात्रा के सैंपल को पुणे स्थित एनआईवी में भेजा जाएगा

Dainik Bhaskar

Jan 27, 2020, 01:04 PM IST

छपरा. बिहार के छपरा में कोरोनावायरस की एक संदिग्ध मरीज मिली है। छात्रा एकता कुमारी चीन में रहकर न्यूरो साइंस में पीएचडी कर रही है। 22 जनवरी को वह चीन से घर लौटी थी, जिसके बाद उसकी तबीयत खराब हो गई। परिजन ने उसे सदर अस्पताल छपरा में भर्ती कराया। कोरोनावायरस के लक्षण दिखने पर डॉक्टरों ने सोमवार सुबह उसे पीएमसीएच रेफर कर दिया। पीएमसीएच में उसका इलाज चल रहा है। एकता ने कहा है कि मुझे कुछ नहीं हुआ है। कोलकाता एयरपोर्ट पर अधिकारियों ने मुझे बाहर आने दिया। मेरे शरीर का तापमान 98° फारेनहाइट है। मुझे कफ नहीं है।

परिजन ने बताया कि छात्रा फ्लाइट से कोलकाता आई थी। कोलकाता से वह ट्रेन से छपरा आई थी। यहां उसे बुखार हो गया था। पीएमसीएच के सुप्रीटेंडेंट विमल कारक ने बताया कि छात्रा के इलाज के लिए खास व्यवस्था की गई है। कोरोनावायरस के मरीज के इलाज के लिए पीएमसीएच हाई अलर्ट पर है। फर्स्ट फ्लोर पर आइसोलेशन वाॅर्ड बनाया गया है।

मरीज का ब्लड सेंपल कलेक्ट कर लिया गया है। इसे पुणे स्थित एनआईवी (नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वायरोलॉजी) में भेजा जाएगा। रिपोर्ट आने पर ही कन्फर्म किया जा सकेगा कि छात्रा कोरोनावायरस से संक्रमित है या नहीं।

चीन में अब तक 80 लोगों की मौत हो चुकी
चीन में कोरोनावायरस से अब तक 80 लोगों की मौत हो चुकी है। इसमें हुबेई प्रांत में सबसे ज्यादा 76 लोग मारे गए। रविवार को उत्तरी अमेरिका में भी 5 मरीज इस वायरस से संक्रमित पाए गए। वहीं, वुहान में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे राजस्थान के एक छात्र के कोरोनावायरस से संक्रमित होने की आशंका के बाद जयपुर में भर्ती कराया गया है।

कोरोना वायरस और उसके लक्षण

कोरोना वायरस विषाणुओं के परिवार का है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, कोरोना वायरस सी-फूड से जुड़ा है। इससे सामान्य जुकाम से लेकर सांस की गंभीर समस्या उत्पन्न होती है। इससे ग्रसित मरीजों में जुकाम, खांसी, गले में दर्द, सांस लेने में दिक्कत, बुखार जैसे शुरुआती लक्षण दिखते हैं। इसके बाद ये लक्षण न्यूमोनिया में बदल जाते हैं और किडनी को नुकसान पहुंचाते हैं। फेफड़े में गंभीर किस्म का संक्रमण हो जाता है। अब तक इस वायरस का कोई विशेष इलाज नहीं है।

बचाव के उपाय

  • हाथ काे साबुन और पानी से रगड़कर साफ करें
  • खांसते और छींकते वक्त नाक और मुंह को ढकें
  • जिनको सर्दी या फ्लू जैसे लक्षण हों, उनसे दूर रहें
  • जानवरों के संपर्क में आने से बचें



Source link

Leave a Reply