मुख्य अतिथि ब्राजीलियन राष्ट्रपति बोल्सोनारो आज राष्ट्रपति कोविंद, उपराष्ट्रपति नायडू और प्रधानमंत्री मोदी से मिलेंगे

0
32


  • ब्राजील के राष्ट्रपति कार्यभार संभालने के बाद भारत की पहली आधिकारिक विदेश यात्रा पर हैं
  • मुलाकात के दौरान दोनों नेताओं के बीच स्वास्थ्य-सुरक्षा सहित 15 समझौतों पर हस्ताक्षर होंगे

Dainik Bhaskar

Jan 25, 2020, 10:22 AM IST

नई दिल्ली. 71वें गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो शनिवार को भारतीय राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलेंगे। इससे पहले, वे शनिवार को विदेश मंत्री एस. जयशंकर से मुलाकात की। बोल्सोनारो शुक्रवार को चार दिनों के दौरे पर भारत पहुंचे। इस दौरान उनकी अगवानी उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने की। बोल्सेनारो के यहां आने का उद्देश्य कृषि, ऊर्जा और रक्षा के क्षेत्र में द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करना है। मुलाकात के दौरान दोनों देशों के बीच सामाजिक सुरक्षा, बायो-एनर्जी, साइबर सुरक्षा, स्वास्थ्य और चिकित्सा के क्षेत्र में 15 समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाएंगे।

जानकारी के मुताबिक, बोल्सनारो के साथ कई मंत्रियों, वरिष्ठ अधिकारियों, ब्राजील की संसद में ब्राजील-भारत फ्रेंडशिप ग्रुप के अध्यक्ष और व्यापारियों समेत एक उच्च-स्तरीय प्रतिनिधिमंडल होगा। दोनों नेता भारत और ब्राजील के बीच होने वाले समझौतों पर चर्चा करेंगे।

गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल होने वाले तीसरे ब्राजीलियन राष्ट्रपति
प्रधानमंत्री मोदी ने बोल्सोनारो को गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल होने का निमंत्रण पिछले साल नवंबर में ब्राजील में आयोजित ब्रिक्स सम्मेलन के दौरान दिया था। भारत की गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होने वाले वह ब्राजील के तीसरे राष्ट्रपति होंगे। बोल्सोनारो के लिए यह इसलिए भी खास है, क्योंकि राष्ट्रपति पद का कार्यभार संभालने के बाद वह भारत की पहली आधिकारिक विदेश यात्रा पर हैं।

कार्य योजना की शुरुआत की जाएगी
भारत में ब्राजील के राजदूत आंद्रे अरन्हा ने मंगलवार को न्यूज एजेंसी से कहा था कि ब्राजील, भारत सरकार के साथ 15 से ज्यादा समझौतों का आदान-प्रदान करने जा रहा है। हम अपनी रणनीतिक साझेदारी को ज्यादा मजबूत और गतिशील बनाने के लिए कार्य योजना भी शुरू करने जा रहे है। इसकी शुरुआत मोदी और बोल्सोनारो करेंगे। राष्ट्रपति के इस दौरे का फोकस ऊर्जा, कृषि और रक्षा के क्षेत्र में द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने पर है।



Source link

Leave a Reply