IPL इतिहास के 5 ऐसे सितारे जो जल्द ही गुमनामी के साये में खो गए

0
3


नई दिल्ली: 2008 के बाद से आईपीएल (IPL) ने कई सितारों को जन्म दिया है. कुछ खिलाड़ियों ने एक सीजन में धमाकेदार प्रदर्शन किया तो दूसरे सत्र में उम्मीदों पर खरा उतरने में नाकाम रहे. इसलिए आईपीएल के इतिहास में हमने कई खिलाड़ियों को देखा है, जो एक सीजन में बहुत कामयाब रहे लेकिन दूसरे सीजन में अपनी लय को बनाए रखने में नाकाम रहे और कुछ सालों में ही गुमनामी में खो गए. आइए जानते हैं ऐसे कुछ खिलाड़ियों के बारे में.

यह भी पढ़ें- जब सचिन ने लिया रिटायरमेंट, तब क्रिकेटर सुषमा वर्मा ने IPL देखना छोड़ दिया

पॉल वल्थाटी
साल 2011 में चेन्नई सुपरकिंग्स (CSK) के खिलाफ किंग्स इलेवन पंजाब के लिए मैच विनिंग सेंचुरी लगाने के बाद पॉल वल्थाटी काफी चर्चा में आ गए. वो साल 2012 तक पंजाब के लिए एक अहम खिलाड़ी थे, जहां वो पारी को ओपन करते थे और काफी तेजी से रन बनाते थे. वल्थाटी उन कुछ खिलाड़ियों में से एक थे, जिन्होंने एक ही आईपीएल मैच में 4 विकेट और एक अर्धशतक दर्ज किया था. हालांकि, 2012 सीजन के बाद न तो पंजाब और न ही किसी अन्य टीम ने उन्हें चुना. अपने आईपीएल करियर में, उन्होंने 23 मैचों में 23 की औसत से एक शतक और एक अर्धशतक के साथ 505 रन बनाए थे.

डग बोलिंगर
ऑस्ट्रेलिया के बाएं हाथ के तेज गेंदबाज डग बोलिंगर साल 2010 और साल 2012 के बीच चेन्नई सुपरकिंग्स टीम का हिस्सा थे, जहां उन्होंने चेन्नई सुपर किंग्स की 2 खिताबी जीत में अहम भूमिका निभाई. अपने आईपीएल करियर में उन्होंने 27 मैचों में 18.72 की औसत से 37 विकेट लिए. हैरानी की बात है कि गेंद के साथ अच्छा रिकॉर्ड होने के बावजूद बोलिंगर को नजरअंदाज किया गया.

मनविंदर सिंह बिस्ला
कोलकाता नाइट राइडर्स के इस पूर्व विकेटकीपर ने साल 2012 के फाइनल में चेन्नई सुपरकिंग्स के खिलाफ 48 गेंदों में 89 रनों की मैच विनिंग पारी खेलकर केकेआर को ट्रॉफी के काफी करीब लाकर खड़ा कर दिया था. इस पारी के लिए उन्हें ‘मैन ऑफ द मैच’ अवॉर्ड मिला था. अगले सीजन में वो अपना फॉर्म बरकरार रखने में विफल रहे, फिर केकेआर ने उन्हें रिलीज कर दिया. साल 2015 में बिस्ला आरसीबी से जुड़े, लेकिन उन्हें कोई मौका नहीं दिया गया. एक मैच के दौरान बिस्ला राहुल द्रविड़ से भिड़ गए और तब से वो कैश-रिच लीग से बाहर हैं और वापसी की कोई गुंजाइश नहीं है.

राहुल शर्मा
पंजाब के गुगली गेंदबाज राहुल शर्मा ने आईपीएल के 2011 के सीजन में पुणे वारियर्स के लिए काफी प्रभावशाली गेंदबाजी की. उन्होंने 14 मैचों में 5.46 की इकौनमी रेट के साथ 16 विकेट लिए. राहुल शर्मा मुंबई इंडियंस के खिलाफ अपने जादुई प्रदर्शन की वजह से सुर्खियों में आए थे. आईपीएल 2011 में अपने बेहतरीन प्रदर्शन की वजह से उन्हें भारतीय टीम में खेलने का मौका मिला और वे कुल 4 वनडे और 2 टी-20 इंटरनेशनल खेले थे, लेकिन उनका राष्ट्रीय कार्यकाल 2011 के आईपीएल की तरह सफल नहीं रहा और बाद में उन्हें टीम इंडिया से हटा दिया गया. लंबे समय तक खराब प्रदर्शन के की वजह से उन्हें आईपीएल से भी बाहर होना पड़ा था.

स्वप्निल असनोदकर
आईपीएल के पहले सीजन में जहां ज्यादातर खिलाड़ियों ने सफलता के मंत्र का पता लगाने के लिए संघर्ष किया, वहीं गोवा के युवा विकेटकीपर बल्लेबाज स्वप्निल असनोदकर ने अनुभवी ग्रीम स्मिथ के साथ धमाकेदार शुरुआत करके सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया था. उन्होंने 9 मैचों में 34.55 के औसत और 133.47 के स्ट्राइक रेट से कुल 311 रन बनाए थे.  हालांकि, असनोदकर अगले सीजन में अपने 2008 के इतिहास को दोहरा नहीं सके, क्योंकि वह 11 मैचों में केवल 112 रन ही बना सके. उनकी खराब फॉर्म लंबे समय तक बनी रही और वे आईपीएल से बाहर हो गए.



Source link

Leave a Reply